जम्मू-कश्मीर में टारगेट किलिंग: घाटी में आतंक का साया, घर-बार छोड़कर जा रहे लोग, अमित शाह की बड़ी बैठक आज

जम्मू-कश्मीर में हालात पिछले कुछ दिनों से लगातार बिगड़ते जा रहे हैं. आतंकी एक बार फिर से घाटी में लोगों को निशाना बना रहे हैं और लगातार हत्याओं का दौर जारी है. आतंकवादियों ने जम्मू-कश्मीर में बीते 26 दिनो में 10 लोगों की हत्या कर दी है. इससे घाटी में एक बार फिर से आतंक का साया गहराता जा रहा है. बुधवार को जहां राजस्थान के एक बैंक मैनेजर की हत्या कर दी गई वहीं शाम में एक मजदूर को आतंकियों ने मार डाला. जम्मू कश्मीर की ताजा स्थिति पर चर्चा के लिए आज जहां गृहमंत्री अमित शाह बड़ी बैठक करने वाले हैं वहीं टारगेट किलिंग के खिलाफ आज कश्मीरी पंडितों ने सामूहिक पलायन की बात कही है.

बढ़ रहा है खौफ का साया

श्रीनगर में काम करने वाले अमित कौल ने कहा कि कल ही कल में चार हत्याएं हो गई हैं. 30-40 परिवार ने शहर छोड़ दिया है. हमारी मांग नहीं मानी जा रही. उनकी (सरकार) सुरक्षित जगह सिर्फ शहरों में हैं. वहीं एक और नागरिक  आशु ने कहा कि सुरक्षाकर्मी तक अब वहां सुरक्षित नहीं रहे हैं तो आम लोग कैसे सुरक्षित रहेंगे.

कश्मीर में लगातार टारगेट किलिंग बढ़ती जा रही है. बुधवार की सुबह एक बैंक मैनेजर की हत्या कर दी गई तो वहीं शाम को बडगाम में दो प्रवासी मजदूरों को निशाना बनाया गया. इसमें एक मजदूर की मौत हो गई. बैंक मैनेजर की हत्या की जिम्मेदारी केएफएफ आतंकी संगठन ने लिया है और धमकी भी दी है.

जम्मू कश्मीर में बढ़ती जा रही हत्याओं से दूसरे प्रदेशों से वहां जाकर काम करने वाले लोग घबरा गए हैं. लोग अब घाटी छोड़कर जा रहे हैं.

Leave a Comment