मणिपुर हिंसा: भीड़ ने सरकारी गाड़ी फूंकी, एक्शन फोर्स के साथ झड़प में दर्जन से ज्यादा महिलाएं घायल

Toran Kumar reporter…19.7.2023✍️

Manipur Violence: मणिपुर के पश्चिमी इंफाल के क्वाकीथेल इलाके में मंगलवार को भीड़ ने एक आईपीएस अधिकारी के वाहन को आग लगा दी, जबकि एक और अन्य घटना में इंफाल में रैपिड एक्शन फोर्स के साथ झड़प के दौरान 19 महिलाएं घायल हुई हैं. पुलिस ने यह जानकारी दी.

मिली जानकारी के अनुसार भीड़ ने पुलिस महानिरीक्षक- जोन II के. कबीब के वाहन में आग लगा दी, जब वह अपनी एस्कॉर्ट टीम के साथ टिडिम रोड पर इंफाल की ओर जा रहे थे. ऐसे में सुरक्षा बलों ने भीड़ को तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस के गोले छोड़े और बाद में 30 हमलावरों को गिरफ्तार कर लिया. घटना के दौरान एक पुलिसकर्मी पैर में गोली लगने से घायल हो गया. हालांकि, वह अभी सुरक्षित है.

वहीं, दूसरी घटना में राज्य में शांति और सामान्य स्थिति की बहाली की मांग को लेकर धरने में भाग लेने के बाद महिलाओं और आरएएफ कर्मियों के बीच झड़प हो गई. राष्ट्रीय ध्वज थामे हुए उन परिवारों का प्रतिनिधित्व करने वाले नौ व्यक्ति भी धरने में शामिल हुए, जिनके सदस्य पहले खमेनलोक घटना में मारे गए थे. प्रदर्शनकारियों ने जब सिंगजामेई बाजार से बाबूपारा स्थित मुख्यमंत्री सचिवालय की ओर बढ़ने की कोशिश की तो पुलिस ने उन्हें रोक दिया.

इस बीच, मणिपुर के मुख्यमंत्री एन. बीरेन सिंह ने मंगलवार को एक उच्च स्तरीय बैठक में राज्य में कानून व्यवस्था की स्थिति की समीक्षा की. सीएम सचिवालय में आयोजित बैठक में मणिपुर सरकार के मुख्य सुरक्षा सलाहकार कुलदीप सिंह, मुख्य सचिव विनीत जोशी, पुलिस महानिदेशक राजीव सिंह और वरिष्ठ पुलिस अधिकारी उपस्थित थे. मुख्यमंत्री ने बाद में ट्वीट किया, राज्य सरकार राज्य में सामान्य स्थिति सुनिश्चित करने के लिए हर संभव उपाय कर रही है.

हालांकि, पुलिस के एक बयान में कहा गया है कि पिछले 24 घंटों के दौरान गोलीबारी, आगजनी और अनियंत्रित भीड़ की छिटपुट घटनाओं के कारण कुछ स्थानों पर स्थिति तनावपूर्ण है. सुरक्षा बलों ने घाटी और पहाड़ी दोनों जिलों के संवेदनशील और सीमांत इलाकों में तलाशी अभियान चलाया और इंफाल पूर्व से तीन हथियार और छह विभिन्न प्रकार के गोला-बारूद बरामद किए गए. एक अवैध बंकर को भी ध्वस्त कर दिया गया.

Leave a Comment