वैष्णो देवी मां के दर्शन को जा रहे हैं तो ये खबर जरूर पढ़ लें, श्राइन बोर्ड रखी ये शर्तें, लोगों को सख्ती से मानना होगा नियम

Toran Kumar reporter

Vaishno Devi Dress Code: अगर आप भी नवरात्रि में वैष्णो देवी जाने का प्लान कर रहे हैं तो यह खबर आपके लिए काम ही है. वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड ने मंदिर में दर्शन के दौरान पहनावे को लेकर गाइडलाइंस जारी की है. मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, श्राइन बोर्ड ने कहा कि दर्शन के लिए श्रद्धालुओं का शालीन वस्त्र पहनना अनिवार्य है. अब वह अब छोटे कपड़े, निक्कर, कैपरी, टी-शर्ट में दर्शन नहीं कर सकेंगे. श्राइन बोर्ड ने कहा कि वैष्णो देवी मंदिर जाने और ‘अटका आरती’ में भाग लेने के लिए अब उचित कपड़े पहनना जरूरी है. कैपरी, टी-शर्ट और इस तरह के कपड़े पहनना सख्त वर्जित है.

कपड़ों पर नजर रखेगा श्राइन बोर्ड

रिपोर्ट के मुताबिक, श्राइन बोर्ड की तरफ से वैष्णो देवी भवन परिसर में कई जगहों पर सूचना बोर्ड लगाए गए हैं. इसके साथ-साथ लाउडस्पीकर के जरिये भी इस तरह की घोषणाएं की जा रही हैं. लाउडस्पीकर से यह घोषणा की जा रही है कि जिन भक्तों ने उचित कपड़े (Vaishno Devi Dress Code) नहीं पहने हैं, उन्हें मंदिर और ‘आरती’ दोनों में प्रवेश नहीं करने दिया जाएगा. मालूम हो कि उचित पोशाक पहनने के बारे में ड्रेस कोड निर्देश काफी समय से मंदिर में लागू हैं. हालांकि इसे नवरात्रि (Navratri 2023) से सख्ती से लागू किया जाएगा. वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड प्रशासन भक्तों के कपड़ों पर कड़ी निगरानी रखेगा, और लोगों की निगरानी की जा रही है.

नवरात्रि में भक्तों को मिलेगी विशेष सुविधा
श्री माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड (Shri Mata Vaishno Devi Shrine Board) ने इस साल नवरात्रि व्रत रखने वाले भक्तों के लिए विशेष व्यवस्था की भी शुरुआत की जा है. सभी यात्रा मार्गों पर श्राइन बोर्ड की तरफ से आयोजित लंगरों में भक्तों को निःशुल्क फल दिए जाएंगे. इससे पहले, नवरात्रि के दौरान श्राइन बोर्ड के भोजनालय में फलाहार थाली उपलब्ध थी. हालांकि, इस साल यात्रा मार्ग में अलग-अलग स्थानों पर ‘फलाहार लंगर’ शुरू किआ जाएगा. भक्त इस सुविधा का लाभ माता वैष्णो देवी के नए ताराकोट मार्ग पर ताराकोट स्थल, पारंपरिक मार्ग पर सांझी छत क्षेत्र और भैरव घाटी में भैरव मंदिर परिसर में उठा सकते हैं.

तो…जगन्नाथ मंदिर में नहीं मिलेगी एंट्री
उधर, पुरी के श्री जगन्नाथ मंदिर प्रशासन (SJTA) भी छोटे कपड़े पहनने वाले को एंट्री नहीं देने का फैसला किया है. मंदिर प्रशासन निक्कर, पारदर्शी वस्त्र, फटी जींस जैसे कपड़ों में आने वाले श्रद्धालुओं को एंट्री नहीं देने का फैसला किया है. यह नियम 1 जनवरी, 2024 से लागू होगा. हालांकि इसकी गाइडलाइन (Jagannath Puri Temple Guidline) जारी कर दी गई है. हालांकि मंदिर प्रशासन की तरफ से कोई विशेष ‘ड्रेस कोड’ लागू नहीं किया है, लेकिन उसने पुरुष श्रद्धालुओं को पैंट, शर्ट और धोती पहनने की सलाह दी है. साथ ही महिलाओं के लिए साड़ी, सलवार-कमीज जैसी सभ्य पोशाक पहनने का सुझाव दिया गया है.

Leave a Comment