Guru Purnima 2023: गुरु पूर्णिमा व्रत आज, जानें पूजा का शुभ मुहूर्त और पूजन विधि

Dinank..3.7.2023/✍️

Guru Purnima 2023: हर साल आषाढ़ माह के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा के दिन गुरु पूर्णिमा का व्रत रखा जाता है और हिंदू धर्म में इसका विशेष महत्व माना गया है. कहते हैं कि हिंदुओं के 18 वेदों की रचना करने वाले गुरु वेद व्यास का जन्म इसी दिन हुआ था और इसलिए इसे गुरु पूर्णिमा के तौर पर मनाया जाता है. इसके साथ ही पूर्णिमा के दिन महिलाएं व्रत भी रखती हैं और सत्यनारायण भगवान का पूजन करती हैं. पंचांग के अनुसार आज यानि 3 जुलाई को गुरु पूर्णिमा का पर्व मनाया जा रहा है और ऐसे में जानिए शुभ मुहूर्त और पूजा की सही विधि.

गुरु पूर्णिमा 2023 शुभ मुहूर्त

गुरु पूर्णिमा आ​षाढ़ माह की पूर्णिमा तिथि के दिन मनाई जाती है और पंचांग के अनुसार इस साल यह तिथि 2 जुलाई को रात 8 बजकर 21 मिनट पर शुरू हुई है. इसका समापन 3 जुलाई को शाम 5 बजकर 8 मिनट पर होगा. उदयातिथि के अनुसार आज यानि 3 जुलाई को गुरु पूर्णिमा का व्रत रखा जाएगा. आज 5 बजे से पहले किसी भी समय पूजा की जा सकती है.

गुरु पूर्णिमा पूजा विधि
वेद व्यास की जयंत को गुरु पूर्णिमा के तौर पर मनाया जाता है और इस दिन लोग अपने गुरुओं का याद करते हैं. गुरुओं के प्रति सम्मान प्रकट करते हैं. जो व्यक्ति आपको जीवन में सही राह दिखाए और मार्गदर्शन दे वही आपका सच्चा गुरु है. इसके अलावा अन्य पूर्णिमा व्रत की तरह ही गुरु पूर्णिमा का व्रत भी बेहद खास होता है और इस दिन लोग पूरी श्रद्धा के साथ व्रत कर भगवान की अराधना करते हैं.

गुरु पूर्णिमा के दिन सुबह जल्दी उठकर स्नान आदि कर स्वच्छ वस्त्र पहनें और मंदिर को भी स्वच्छ करें. इसके बाद अपने गुरु की फोटो या अपने आराध्य का पूजन करें. इस दिन भगवान सत्यनारायण की पूजा का भी विधान है और एक चौकी पर लाल रंग का कपड़ा बिछाकर सत्यनारायण भगवान की तस्वीर रखें. इसके बाद उन्हें तिलक करें और फूल अर्पित करें. फिर अपने गुरु की तस्वीर पर भी तिलक लगाएं. भगवान सत्यनारायण के समक्ष घी का दीपक जलाएं और फिर आरती करें. इसके साथ ही सत्यनारायण जी की व्रत कथा भी अवश्य पढ़ें. फिर शाम को चंद्रमा को अर्घ्य देने के बाद व्रत खोलें और प्रसाद ग्रहण करें.

Leave a Comment